#Decade BlogHop #RRxMM ऐ दशक तुझे मैंने दिल से जिया

ऐ दशक तुझे मैंने दिल से जिया

Starting with my heartiest Thanks to MANAS and RASHI for bringing this fabulous unique BlogHop Themed “DECADES” for us.

I used to write a piece of thought, quite some time, from my school days, anything which I felt to express used to pen it, this habit of writing inherited in me from my dad, who used to maintain his diary on daily basis.

Writing about my decade journey was like moving the mountain in the way Salman Khan did in Tubelight Movie, which only I feel its moving but in actual it wasn’t. Hehehe!!! but somehow accepted the challenge braverly. The day, Manas and Rashi have announced about BlogHop, max of the time I found myself, wearing a coat and cap of Director/writer, in the feel of, making my own movie named DECADE, jotted down on few topics, (like why to worry, I will definitely succeed in searching the best topic to write on), what next, just relax mode on; And the entry of myth-buster took place, as 21st Jan 2020 morning hit, I was like ohh !!! How perfectly I prepared my script by burning the midnight oil, Gosh!!!! The movie (topic what I was thinking of) has already released and undoubtedly, in the best way from so many outstanding blogger buddies, and wait!! here the final show starts, my so-called jot down list getting shorter and shorter till it reached zero !!!!!!

So finally decided to share my decade journey and it’s highs and lows in few lines of my poem. , nothing is new, nothing more achieved as I still feel like a newcomer and every single day brings one more opportunity for me to learn something new. I had never been so ambitious about my career/life but yes, I always dreamt of spreading my wings in an open sky and fly high with whatever I had in my hands few or more. I lived my decade wholeheartedly, with the mix flavors of all colors of life, happiness, sadness, frustration, good/bad surprises, mistakes, and so on……..

So concluding my decade story’s cherishable moments in the form of poetry and that’s too in Hindi…

कुछ खोया है कुछ पाया है , ज़िन्दगी के बेमिसाल सालों को मैंने खुशनुमा यादों में पिरोया हैं
लम्हो ने कभी कुंठाग्रस्त किया ,कभी संयम को हथियार बना
ऐ दशक, तुझे मैंने दिल से जिया

काशी की नगरी से उठकर ,विक्टोरिया के गलियारों तक ,दगडू सेठ से बाजीराव शनिवार वाड़ा तक सब एक किया
सुन, ऐ दशक, तुझे मैंने दिल से जिया

शहर बदला दुनिया बदली ,सुन्दर जीवन की शुरुआत हुई ,ये उन् दिनों की बात हैं जब ख्वाबों ने पाँव पसारा है
ऐ दशक, तू सुन रहा है ना, तुझे मैंने दिल से जिया है

अल्हड़ सी थी मैं जोश जेहन में लेकर चली ,कौतुहल की गगरी लिए एक आशियां नया बसाया हैं
ऐ दशक, मैंने कहा ,तुझे मैंने दिल से जिया हैं

क्रिकेट की दुनिया में जब धोनी का सिक्का चलता था जहाँ उसकी शादी पर ना जाने कितनों का दिल भी टूटा था
हर गली मोहल्ले में खुशियों का बिगुल बजा जब वर्ल्ड कप घर आया ऐ दशक, तुझे मैंने दिल से जिया

समय बहुत था ,रास्ता नया था अधूरे सपनों को फिरसे आँखों में बसाया है
रब दी सौ ,ऐ दशक, तुझे मैंने दिल से जिया हैं

साल पर साल बढ़ते हुए , Full Time तो नहीं पर Guest Faculty बनकर काम का शुभारम्भ किया
मेरे शिक्षा का संसार भी अपनी गति से चल पड़ा ऐ दशक, तुझे मैंने दिल से जिया


हर पल कुछ सिखने का खुद से किया एक वादा था
डांस,हो या करियर उस दौर में सबका आगाज़ हुआ
ऐ दशक,सच में ,तुझे मैंने दिल से जिया

वक़्त के उस मोड़ पर एक दोस्त प्यारा छोड़ गया ,मेरे जन्मदिन के कुछ लम्हों से पहले वो इस दुनिया से उस दुनिया में विलीन हुआ
ऐ दशक, इस बार तूने रूला दिया ।।।।।।।।।।।।।।।।।।

ये समय है जनाब हंसने रोने का इस पर ना कभी असर होगा,लो ले आया पैगाम एक नए महाद्वीप की ओर रुख करने का
ऐ दशक, तूने दिल भारी कर दिया।

एक और है सर्दी आयी,पर समय का पहरा उल्टा है रात और दिन ने हेरा फेरी करके अपनी जगह से खेला है
एक बार फिरसे, ऐ दशक, तुझे मैंने दिल से जिया है

खट्टी मीठी यादों से एक दशक ख़तम होने को आया
कुछ प्रियजनों से छूटा एक बार फिरसे साथ,कुछ साथ नया हिस्से में आया
फिर भी, ऐ दशक, तुझे मैंने दिल से जिया

This was all about my journey from 2010 -2020. And the journey goes on……..!!!!!!!!!!!!!

Have A Happy Decade Ahead!!!!!!!!

“This post is a part of ‘DECADE Blog Hop’ #DecadeHop organized by #RRxMM Rashi Roy and Manas Mukul. The event is sponsored by Glo and co-sponsored by Beyond The BoxWedding ClapThe Colaba Store and Sanity Daily in association with authors Piyusha Vir and Richa S Mukherjee”